Search

कुमाऊं (उत्तराखंड ) की प्रसिद्ध होली- कुमाऊं की होली का इतिहास

होलीका महत्व:-

अपनेदुष्ट पिता हिरण्यकश्यप कीयोजनाओं पर पवित्र प्रह्लादकी जीत के प्रतीकात्मकमहत्व के अलावा। कुमाऊंकी होली में लंबेहिमालयी सर्दियों के अंत औरएक नए बुवाई केमौसम की शुरुआत होतीहै, जिसे मनाया जाताहै। इसका मतलब कुमाऊनीकिसानों के लिए कुछदिनों के कठोर कृषिश्रम के कठोर जीवनसे भी है।


कुमाऊँनीहोली की विशिष्टता इसकेसंगीतमय होने के रूपमें निहित है, चाहे इसकारूप कुछ भी हो, चाहे वह बैठ होली, खड़ी होलीऔर महिलावो की होली हो, जो सभी बसंत पंचमीसे शुरू होती हैं।इसका परिणाम कुमाऊं में लगभग दोमहीने तक चलने वालीहोली के उत्सव सेहोता है। बैथकीहोली और खड़ी होलीउन गीतों में अद्वितीय हैं, जिन पर वे आधारितहैं, उनमें माधुर्य, मस्ती और आध्यात्मिकता कासंयोजन है।

ये गीत अनिवार्य रूपसे शास्त्रीय रागों पर आधारित हैं।बैथकी होली को निर्वाणकी होली या साल्वेशनकी होली के रूपमें भी जाना जाताहै।

कुमाउनीहोली की विशेषताएं हैंजो देश में कहींभी होली समारोह सेबहुत अलग हैं।

निम्नलिखितविभिन्न प्रकार के संगीत समारोहहैं जिनमें होली के गीतोंको औपचारिक रूप से गायाजाता है जिन्हें होलीउत्सव की शुरुआत केरूप में देखा जाताहै। संगीत समारोह के रूप मेंये सभी उत्सव बसंतपंचमी दिवस पर शुरूहोते हैं।

मूल:-

होलीके रूपों की उत्पत्ति विशेषकरबैशाखी होली की संगीतपरंपराएं 15 वीं शताब्दी मेंचंपावत (चंद राजाओं केदरबार) में हुईं, जहांचंपावत की खादी होली (सूई, गुमदेश, बिल्डी) की ब्रज कीसंगीत परंपराओं को कुमाऊनी संगीतपरंपराओं के साथ मिलायागय। एक शैली जोशास्त्रीय संगीत और लोक काअनूठा मिश्रण है। जबकि, कुछमें यह श्रृंगार रासकी उपस्थिति के कारण ठुमरीसे मिलता जुलता है, लेकिन यहपूरी तरह से अलगहै, जिस तरह सेबंदिश का प्रतिपादन कियाजाता है, विस्तृत औरजिस तरह से कुछराग प्रस्तुत किए जाते हैं।चंद शासन के प्रसारऔर उनके तहत कुमाऊंके एकीकरण के साथ होलीकी परंपराएं पूरे कुमाऊं मेंफैल गई और उन्होंनेअपने अलग कुमाऊं स्वादका अधिग्रहण किया।

श्रीहीरा बल्लभ भट्ट जी चंपावतमें प्रसिद्ध खड़ी होली औरबैठाकी होली गायक थे।उन्होंने DD1 पर कुमाऊँनी खड़ीहोली का प्रतिनिधित्व किय।

बैठाकीहोली:-

शाब्दिकरूप से बैठी होलीएक संगीतमय सभा है, जोबसंत पंचमी के दिन सेशुरू होती है, जोकुमाऊं में दुलहंडी (याचंद्र महीने के अंतिम पूर्णिमा) तक चलती है। कुमाऊँके कुछ क्षेत्रों मेंयह पौष के भारतीयमहीने के पहले रविवारयानी दिसंबर के महीने मेंसर्दियों के चरम परशुरू होता है औरवे मार्च (4 महीने) तक बैशाखी होलीमनाते हैं और बैशाखीहोली के दौरान वे रंगोका इस्तेमाल नहीं करते है।

बैथकीहोली गीत हिंदुस्तानी शास्त्रीयसंगीत की शास्त्रीय परंपराओंपर आधारित हैं लेकिन कुमाउनीलोक संगीत परंपराओं का भारी प्रभावहै।

बैथकीहोली मंदिरों के परिसर सेशुरू होती है, जहाँहोलियारों (होल्यारों), (होली गीतों केगायक) के रूप मेंभी लोग हारमोनियम औरतबले जैसे शास्त्रीय संगीतकी संगत में गानेके लिए इकट्ठा होतेहैं।

पौषके पहले रविवार सेशुरू होने वाले इनदिनों को निर्वाण होलीके नाम से जानाजाता है। स्वामी ब्रह्मानंदद्वारा लिखित कुछ होली भीगाए जाते हैं औरउन्हें ब्रह्मानंद की होली कहाजाता है। शिवरात्रि सेफ़ोकस फिर शिवपदी होलीकी ओर जाता है।

ज्यादातरप्रसिद्ध बैठाकी होली समूह चंपावतजिले के पाटी मेंरहते हैं। और सभीपरिवारों में कम सेकम एक संगीत खिलाड़ीहै। वे क्षेत्रीय कुमाऊँनीभाषा या हिंदी भाषामें अपने खुद केबनाये हुए बैठा होलीगीत गाते हैं।

कुमाऊंनीउस समय के बारेमें बहुत खास हैं, जब रागों पर आधारित गीतगाए जाने चाहिए। उदाहरणके लिए, दोपहर मेंपिल्लू, भीमपलासी और सारंग रागोंपर आधारित गाने गाए जातेहैं, जबकि शाम कोरागों पर आधारित गीतोंके लिए आरक्षित कियाजाता है, जैसे किकल्याण, श्यामकल्याण, काफ़ी, जयजयवंती)। रागों कीप्रस्तुति में एक निश्चितविशिष्टता होती है (धुन) ) भी और उनमें सेकुछ जैसे जंगलकाफी (जोकि खमाज का एकविशेष कोण है) कुमाउनीहोली के लिए अद्वितीयहैं ताल का उपयोगभी अद्वितीय हैं।

कुमाउनीहोली में धमार तालमें भारतीय शास्त्रीय संगीत परंपरा में १६ कीबजाए १४ की जगह१४ है। अन्य सबसेव्यापक रूप से इस्तेमालकिया जाने वाला ताल, चांचर के रूप मेंजाना जाता है, जिसमें 16 मातृ भी हैं। इनकेअलावा अन्य टेलेन्टल औरकेहरवा का व्यापक रूपसे उपयोग किया जाता ह।यह आमतौर पर राग धमारसे शुरू होता हैऔर राग भैरवी केसाथ समाप्त होता है।


गीतआमतौर पर हिंदू भगवानकृष्ण और राम केजीवन से प्रकृति औरचिंता की कहानियों मेंधार्मिक हैं। फिर भीये बैशाख एक अंतर-धार्मिकमामला है क्योंकि इनसम्मेलनों में मुस्लिम औरईसाई भी भाग लेतेहैं।


"होलीराग--- समुझाय रही राधा नन्द, नन्द कुवर समुझय, होलीखेलो फागुन ऋतु आयी,जलकैसे भरूं।"


खड़ीहोली:-

खड़ीहोली शाब्दिक रूप से खड़ीहोली, आमतौर पर बैठाकी होलीसे थोड़ी देर बाद शुरूहोती है। यह ज्यादातरकुमाऊं के ग्रामीण इलाकोंमें मनाया जाता है। खड़ीहोली के गीत लोगोंद्वारा गाए जाते हैं, पारंपरिक सफेद नोकदार टोपी, चूड़ीदार पायजामा और कुर्ता, डोल, जोड़ा (धातु का वाद्ययंत्र), और हुरका जैसेजातीय संगीत वाद्ययंत्रों की धुन परसमूह में नृत्य कियाजाता है।

तलीहोली की शास्त्रीय गायनकी तुलना में समूहों मेंपुरुष एकल गीत गातेहैं, जो स्वाद मेंकुमाऊँनी होते हैं, जोविभिन्न घरों में जातेहैं और उस घरके सदस्यों का अभिवादन करतेहैं और गृहस्थ कीसमृद्धि के लिए प्रार्थनाकरते हैं। पुरुषों केइन समूहों को टोलिस कहाजाता है।


खड़ीहोली बैशाखी होली के औरअधिक स्वभाव के विपरीत उत्साहऔर प्रलोभन से भरी होतीहै। आम तौर परखड़ी होलीके गीत गाए जातेहैं।

झनकारोझनकारो झनकारो

गौरीप्यारो लगो तेरो झनकारो - २

तुमहो बृज की सुन्दरगोरी, मैं मथुरा कोमतवारो

चुंदरिचादर सभी रंगे हैं, फागुन ऐसे रखवारो।

गौरीप्यारो…

सब सखिया मिल खेल रहेहैं, दिलवर को दिल हैन्यारो

गौरीप्यारो…

अब के फागुन अर्जकरत हूँ, दिल करदे मतवारो

गौरीप्यारो…

भृजमण्डल सब धूम मचीहै, खेलत सखिया सबमारो

लपटीझपटी वो बैंया मरोरे, मारे मोहन पिचकारी

गौरीप्यारो…

घूंघटखोल गुलाल मलत है, बंजकरे वो बंजारो

गौरीप्यारो लगो तेरो झनकार।

जोगीआयो शहर में व्योपारी -२

अहा, इस व्योपारी को भूख बहुतहै,

पुरियापकै दे नथ-वाली,

जोगीआयो शहर में व्योपारी।

अहा, इस व्योपारी को प्यास बहुतहै,

पनिया-पिला दे नथवाली,

जोगीआयो शहर में व्योपारी।

अहा, इस व्योपारी को नींद बहुतहै,

पलंगबिछाये नथ वाली

जोगीआयो शहर में व्योपारी


महिलाहोली:-

एक आम महिला होलीगीत का उदाहरण।


बलमाघर आयो फागुन में -२

जबसेपिया परदेश सिधारे, आम लगावे बागनमें, बलमा घर… चैत मास मेंवन फल पाके, आमजी पाके सावन में, बलमा घर… गऊ को गोबरआंगन लिपायो, आये पिया मेंहर्ष भई, मंगल काजकरावन में, बलमा घर… प्रियबिन बसन रहे सबमैले, चोली चादर भिजावनमें, बलमा घर… भोजन पान बानयेमन से, लड्डू पेड़ालावन में, बलमा घर…' सुन्दरतेल फुलेल लगायो, स्योनिषश्रृंगार करावन में, बलमा घर… बसनआभूषण साज सजाये, लागिरही पहिरावन में, बलमा घर


चीरबंधन और जयकार दहन:-

कुमाऊंमें होलिका अलाव को जयकार (जयकार) के रूप मेंजाना जाता है, जोएक समारोह में दुलहंडी सेपंद्रह दिन पहले चीरबंधन (चीर बंधन) केरूप में जाना जाताहै। जयकार मूल रूप सेबीच में एक हरेपईया पेड़ की शाखाके साथ एक अलावहै। हर गाँव औरमुहल्ले की जय-जयकारपर कड़ा पहरा हैक्योंकि प्रतिद्वंद्वी मौहल्ले दूसरों की जयकार चुरानेकी कोशिश करते हैं। जयकारउत्सव का केंद्र है।

होलीसे पहले की रातको चीर जलाया जाताहै और चीर दहनके रूप में जानाजाता है जो अपनेबुरे पिता की योजनाओंपर पवित्र प्रह्लाद की जीत काप्रतीक है।

चीरदहन समारोह मैं एक स्वस्थऔर समृद्ध वर्ष के लिएकुमाऊँनी में निम्नलिखित प्रार्थनाको एक साथ करनेके लिए जोर सेपड़ा जाता है।


हो हो हो लखरे

हमारआमा बुबू जी रौलासौ लाख बरिस

हमारइजा बौजू जी रौलासौ लाख बरिस

हमारदाज्यू भौजी जी रौलासौ लाख बरिस

हो हो हो लखरे


छारडी:

कुल्होनी (छारद (छार) से, याफूलों के अर्क, राखऔर पानी से बनेप्राकृतिक रंगों) में छारडी (छेरड़ी) के रूप में जानाजाने वाला दुलेंडी पूरेउत्तर भारत में बहुतही धूम धाम सेमनाया जाता है। उत्सवके मुख्य घटक अबीर औरगुलाल हैं, सभी संभवरंगों में। इसके बादपिचकारियों का उपयोग करतेहुए रंगीन पानी की फुहारआती है।टेसू के फूलों काउपयोग करके रंगीन पानीतैयार किया जाता है, जिसे पहले पेड़ों सेइकट्ठा किया जाता है, धूप में सुखाया जाताहै, और फिर जमीनपर उतारा जाता है, औरबाद में नारंगी-पीलेरंग का पानी बनानेके लिए पानी केसाथ मिलाया जाता है। एकऔर पारंपरिक होली आइटम जोअब शायद ही कभीदेखा जाता है, एकलाल पाउडर है जो लाखके ग्लोब में संलग्न है, जो तुरंत टूट जाता हैऔर पाउडर के साथ पार्टीको कवर करता है।


भोजन:

होलीके लिए विशेष पाकतैयारी में गुझिया (भुनाहुआ मावा (ठोस दूध निकालनेकी मिठाई), और ड्राई फ्रूट्सऔर नट्स) और आलू केगुटके कीएक मीठी भरनी (तलीहुई पकौड़ी) शामिल है, जो धनिएके पत्तों के साथ उबलेहुए आलू उबले हुएहैं। धनिया पत्ती) स्थानीय मसालों के साथ औरभांग की चटनी।


65 views0 comments